कोरोना वाइरस और आयुर्वेद

 सम्पूर्ण विश्व में तनाव का मोहोल लाने वाले कोरोना वाइरस के बारे में आयुर्वेद का मत कुछ इस प्रकार है।


सावधानियां और जरूरी जानकारियां
 --व्यक्तिगत स्वच्छता बनाए रखें।
 --बीमार,खासकर खांसते, छींकते लोगों के  निकट संपर्क में आने से बचें।
 -- साबुन-पानी से कम से कम 20 सेकंड तक अपने हाथ साफ करें।
 --भीड़ भरे स्थानों में मास्क का उपयोग करें।
-- आइसक्रीम और फ्रिज कोल्ड अन्य ठंडी चीजों के इस्तेमाल से बचें।
 --60% अल्कोहल आधारित हैंड सैनिटाइज़र का उपयोग करें‌।
-- अपनी आंखों, नाक, मुंह को साफ हाथों यानी साबुन से कम से कम 20 सेकंड तक हाथ धोने के बाद ही छुएं।
 ---अच्छी तरह से पकाया हुआ गर्म भोजन करें।
--- एक दो चम्मच कद्दू के बीज अवश्य खाएं। इनमें जिंक होता है जो इम्यून बूस्टर है।
-- खाने में प्रोटीन को शामिल जरूर करें। यह इम्युनिटी को बढ़ाता है, जिससे शरीर को संक्रमण से लड़ने में मदद मिलती है। इसकी पूर्ति हेतु लंच व डिनर में एक-एक कटोरी तुअर दाल ले सकते हैं।
-- सहजन यानी ड्रमस्टिक की फलियों  या पत्तियों को दाल या करी में डालकर खाएं। यह विटामिन ए सहित अनेक पौष्टिक तत्वों का भंडार है और एंटीबैक्टीरियल तथा एंटीवायरल गुणों से भरपूर होता है। इसकी पत्तियों का पाउडर बनाकर भी सेवन करते हैं।  आजकल इसे सुपर फूड कहा जा रहा है।
--खाने में लाल मिर्च या लाल शिमला मिर्च का प्रयोग करें। इसे गाजर, ककड़ी आदि के सलाद में मिलाकर खा सकते हैं। इसमें मौजूद विटामिन सी एन्टीआक्सीडेंट है और इम्यूनिटी को बढ़ाता है।
---लहसुन, प्याज, हल्दी का किसी न किसी रूप में सेवन करने से शरीर की रोगों से लड़ने की ताकत बढ़ती है।
-- 24 घंटे में कम से कम दो लिटर पानी अवश्य पीएं। इससे शरीर हाइड्रेट रहेगा, किडनियां सही काम करेंगी और शरीर से विषैले तत्व बाहर निकल जाएंगे।
-- शरीर को हाइड्रेट रखने और विटामिन सी की पूर्ति हेतु एक नारियल के  पानी में आधा नींबू निचोड़कर पीएं।
-- रोज सुबह खाली पेट एक फल जरूर खाएं। फल शरीर को अल्कलाइन रखने में मदद करते हैं, जिससे इम्युनिटी बेहतर होती है। फलों में सेब, पपीता, अंगूर, नासपाती आदि अल्कलाइन होते हैं।
-- रोज कम से कम सात, आठ घंटे की नींद लें। इससे भी शरीर में प्रोटीन बूस्ट होता है।

•सेल्फ चेक-अप:
गहरी सांस लें, कम से कम 20 सेकंड तक रोकें। अगर आपको खांसी आती है या सांस फूल जाती है, तो रोग के किसी संदिग्ध कारक के बारे में सोचें।
Using nasya to cure respiratory disease.


•कोरोना वायरस से लड़ने हेतु इम्युनिटी बढ़ाने वाले कुछ खास उपाय :
**पूरे दिन घूंट-घूंट करके गुनगुना पानी पीएं। या फिर घूंट- घूंट करके गर्म हरी चाय, रसम या गर्म सब्जी  का सूप पीएं। क्योंकि 27 डिग्री सेंटीग्रेड से अधिक गर्म चीजों के संपर्क में आने पर कोरोना वायरस मर जाता है।
** एक गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी उबालकर गर्म- गर्म पीने से सर्दी-जुकाम, गला दर्द तथा इन्फेक्शन पर कंट्रोल होता है। या...
** एक गिलास दूध या पानी में एक छोटी चम्मच मुलेठी पाउडर डालकर उबाल लें। इसे  गर्म-गर्म पीना लाभदायक है। यह डायबिटीज वालों के लिए भी फायदेमंद है‌। क्योंकि उन्हें कोरोनावायरस के संक्रमण का रिस्क ज्यादा रहता है। या...
** सौंठ, काली मिर्च, पिप्पली 5--5 ग्राम और तुलसी की 10 पत्तियां एक लीटर पानी में तब तक उबालें जब तक पानी आधा लीटर न रह जाए। फिर गरम गरम घूंट-घूंट करके पीएं। दिन में कई बार इसे आजमाएं। या...
** तुलसी, सोंठ, काली मिर्च, गुड़, वासा पत्ती, गिलोय और प्याज का एक छोटा टुकड़ा ;  इन सभी को उबाल, छानकर पीयें। यह पेय स्वादिष्ट भी लगेगा और वायरस, बैक्टीरिया नाशक भी है। या...
**तुलसी, अश्वगंधा, आंवला, गिलोय, लहसुन, मुलेठी, सहजन की पत्ती समान मात्रा में लेकर पाउडर बनाकर रख लें‌। दिन में दो बार पांच- पांच ग्राम की मात्रा में गर्म पानी से लें। या...
**एक गिलास गर्म पानी में एक नींबू का रस और एक चौथाई चम्मच हल्दी पाउडर घूंट घूंट  करके पीएं, दिन में कई बार। या...
**सहजन पत्ती का 10 ग्राम पाउडर एक लीटर पानी में तब तक उबालें जब तक कि यह आधा लीटर न रह जाए। फिर इसे छानकर घूंट घूंट करके दिन भर  पीते रहें। या...
**षडांग पनिया पाउडर (इसके छह घटक हैं नागरमोथा, पित्तपापड़ा,उशीरा, नेत्रबला,
लाल चंदन,सोंठ; सब समान मात्रा में) 10 ग्राम की मात्रा में लेकर एक लिटर पानी में तब तक उबालें, जब तक पानी आधा न रह जाए। इसे सुबह से लेकर रात तक घूंट-घूंट कर पीएं।या...
**8 से 10 लहसुन की मीडियम साइज की कलियां एक लीटर पानी में तब तक उबालें जब तक पानी आधा लीटर न रह जाए। इसे घूंट घूंट करके दिन भर पीएं।
** तीन-चार चम्मच मेथी दाने रात को पानी में भिगो दें। सुबह खाली पेट वह पानी छानकर पी लें और मेरी दाने भी चबा चबाकर खा लें।  यह नुस्खा फेफड़ों में जमा टाक्सिंन्स को निकालने में मददगार है। डायबिटीज़ के रोगियों के लिए तो बहुत ही अच्छा उपाय है।
(नोट: बताये गये नुस्खों में से अपने लिए सूटेबल एक-दो नुस्खों को ही आजमाएं। किसी नुस्खे को बनाने के लिए सारी चीजें उपलब्ध नहीं हों तो जितनी मिलें उतनी से ही नुस्खा बना लें। आवश्यक लगे तो वैद्यकीय परामर्श ले लें)
**नस्य लें : नाक के दोनों नथुनों में अणु तेल या तिल तेल में में से किसी एक तेल की दो-दो बूंदें सुबह- शाम डालें।
**भाप लें :  10--12 तुलसी पत्ते और आधा चम्मच हल्दी को पानी में उबालकर भाप लें। याद रहे, कोरोनावायरस पहले गले को ही प्रभावित करता है, बाद में फेफड़ों में प्रवेश करता है। भाप लेने से गले में मौजूद ये वायरस शुरूआत में ही खत्म हो जाते हैं।
** गरारे करें : पानी में हल्दी, त्रिफला, मुलेठी और सेंधा नमक को उबालकर इससे गरारे करें। इससे गले में  मौजूद विषाणुओं का नाश होगा।
** धूप दें : सुबह-शाम घर में धूप दें। इसके लिए गोबर के उपले पर  नीम की पत्तियां, सूखे नारियल की जटा, हींग, लहसुन, प्याज, सेंधा नमक, कपूर और देसी घी जलाकर धुआं करने से घर के वातावरण में मौजूद वायरस, बैक्टीरिया आदि नष्ट होते हैं और हवा शुद्ध होती है। यदि सारी चीज़ें न मिलें तो सिर्फ नीम की पत्तियों को जलाकर ही धुआं कर लें।
# यदि आप सर्दी, खांसी, गला- दर्द आदि समस्या के लक्षण महसूस कर रहे हैं तो लेख में बतायी गयी जानकारियों पर अमल करें तथा अपने लिए उपयुक्त एक-दो आयुर्वेदिक नुस्खों को आजमाएं। साथ ही आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह से इन दवाओं का सेवन कर सकते हैं---
 --गिलोय पाउडर 5 ग्राम, दिन में दो बार, गर्म पानी से लें।
साथ ही अगस्त्य हरीतिकी अवलेह 5 ग्राम दिन में दो बार गर्म पानी से लें।
 यह निश्चित रूप से मदद करेगा ‌।

1 comments

Provide your suggestions here